Top Five Stories – March 2015

read.guzmood.ru 2015-04-15 Comments

This story is part of a series:

Top Five Stories – March 2015

Ghar Ke Lode – Part I

Mere chuche abhi 36 inch ke ho gaye hai aur kamar 32 inch ki meri gaand bahut jada bahar ko aa gayi hai kya karu sabhi meri gaand me he loda dalte hai, isliye gaand bahar ko aa gayi hai dosto aaj meri ye halat hai ki meri chut aur gaand me hathi ka loda bhi ghus jaye kyoki waqt aur halat ne mujhe itni badi chudakkad bana diya hai ki main aapko kya btau, dosto main ek sidhi saadhi ladki thi aap story read karo sab jaan jaoge ki kese hawas ke pujariyo ne meri jindgi barbaad ki ab apko jada bor nahi karungi chalo sidhe meri barbadi ki dastan apko sunati hoon, baat hai 14 june 2006 ki jab main 14 saal ki thi… read more


Naman Bhabi Di Mast Thukai

Naman bhabi menu apne guest-room ch le gayi te keha ke appan etthe hi karaange, room ch ek bahut sohna bed lagya hoya si, bhabi ji ne darvaja band keeta te bed te jaa ke beith gaye, main onnu nu honsla jeha dende hoye keha ke tussi darro na tussi kujj galt nhi kar rhe apni khushi da hakk hare ke insaan nu hai naale tussi kehda roz roz karna hai, eh sab kehnde kehnde onna di chunni laah ke side te rakkh ditti te onna nu bed te lita ditta, bhabi di dhadkan tez ho chuki sit e onna di dhadkan kisse shazz vaang awaaz kar rhi c, main apna ekk hath onna di shaati te rakhya te te dujje… read more


Ger Mard Sang Pehli Baar

दिन तो काम धंधे मे कट जाता था मगर रात को जान निकाल जाती थी। क्या करती, जब ज़्यादा काम दिमाग को चढ़ता तो उंगली से हस्तमैथुन करती, कभी कभी गाजर मूली का भी सहारा लेती। मगर मर्द का स्पर्श, मर्द का ही होता है। मर्द के ल्ंड का विकल्प तो था मेरे पास मगर मर्द के चुंबबों का विकल्प कहाँ से लाती, मर्द के सख्त हाथों से स्तनो को मसलने का विकल्प कहाँ से लाती। मैंने इनसे बहुत बार कहा के मुझे वापिस ले चलो, मगर ये संभव न हो सका। पड़ोस वाली काकी का बेटा कोई 24-25 साल का था वो अक्सर हमारे घर आता, घर के बहुत सारे काम वो कार्वा जाता, चोरी चोरी मुझे ताड़ता, मैं समझती थी के वो क्या चाहता है, मगर मैं नहीं चाहती थी सो उसे कभी लाइन नहीं दी। वो अक्सर मेरे भरपूर योवन को निहारता… read more


Namrata Ki Kahani

कुछ हफ्ते बाद अदिति के मम्मी-पापा एक शादी में दिन भर के लिए चले गए. उसके भाई पढ़ाई के लिए शहर से बाहर जा चुका था. उसका घर पूरा दिन के लिए खाली था. उसके दिमाग में बल्ब जला- उसे ख्याल आया क्यूँ न नम्रता को बिना बताये यहाँ बुलाया जाये, और अनिल के साथ अकेला छोड़ दे. बाकी का कम तो अनिल खुद कर लेगा. उसने पहले अनिल से मोबाईल फोन पर बात की. उस वक़्त पर वो थाने पर डयूटी पर था. अदिति की बात सुनते ही वो थाने में बहना बना कर सीधे अदिति के घर आ गया, वर्दी तक नहीं बदली. “क्या बात है…!!!” अनिल के लिए दरवाज़ा खोलते हुए अदिति ने चुटकी ली “नम्रता इतनी पसंद है की वर्दी में ही चले आये? वर्दीवाले गुंडे!!” अनिल मुस्कुराते हुए अन्दर घुसा और दबी आवाज़ में पूछा “आ गयी वो?”… read more


Mummy Ki Kaam Vasna – Part I

Mari mummy aur mausaji dusre kamre me baithe hue the aur bate kar rahe the unki aawaz mujhe dhire dhire aa rahi thi mummy bich bich me has rahi thi mausaji meri mummy se kah rahe the acha kiya jo tum aa gayi holi main boor ho jata hoon khelu kiske sath rang samjh nahi aata hai mummy ne kaha haan hume bhi acha laga didi ne bulaya bahut din ho gaye the aap sab se mile hue mausaji ne kaha kal tumko ragad ke rang lagaunga main mummy ne kaha acha main bhi aappe pani dal dungi mausaji ne mazak me kaha kyu nahi tum chaho toh mere sath rang me kya bathroom… read more

What did you think of this story??

Comments

Scroll To Top